OR [rank_math_breadcrumb]

ॐ जय जगदीश हरे : विष्णु जी की आरती | Om Jay Jagdish Hare Aarti in Hindi

विश्व में सबसे ज्यादा लोकप्रिय आरती ॐ जय जगदीश हरे (Om Jay Jagdish Hare) है, जिसे पं. श्रद्धाराम शर्मा द्वारा सन् १८७० में लिखी गई थी।

यह आरती मूलतः भगवान विष्णु को समर्पित है, फिर भी इस आरती को किसी भी पूजा, उत्सव पर गाया या सुनाया जाता हैं। कुछ भक्तों का मानना है कि इस आरती का मनन करने से सभी देवी-देवताओं की आरती का पुण्य मिल जाता है।

Om Jay Jagdish Hare Aarti
Om Jay Jagdish Hare

Om Jay Jagdish Hare Lyrics in Hindi

ॐ जय जगदीश हरे,
स्वामी जय जगदीश हरे।
भक्त जनों के संकट,
दास जनों के संकट,
क्षण में दूर करे॥

॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

जो ध्यावे फल पावे,
दुःख बिनसे मन का,
स्वामी दुःख बिनसे मन का।
सुख सम्पति घर आवे,
सुख सम्पति घर आवे,
कष्ट मिटे तन का॥

॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

मात पिता तुम मेरे,
शरण गहूं किसकी,
स्वामी शरण गहूं मैं किसकी।
तुम बिन और न दूजा,
तुम बिन और न दूजा,
आस करूं मैं जिसकी॥

॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

तुम पूरण परमात्मा,
तुम अन्तर्यामी,
स्वामी तुम अन्तर्यामी।
पारब्रह्म परमेश्वर,
पारब्रह्म परमेश्वर,
तुम सब के स्वामी॥

॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

तुम करुणा के सागर,
तुम पालनकर्ता,
स्वामी तुम पालनकर्ता।
मैं मूरख फलकामी,
मैं सेवक तुम स्वामी,
कृपा करो भर्ता॥

॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

तुम हो एक अगोचर,
सबके प्राणपति,
स्वामी सबके प्राणपति ।
किस विधि मिलूं दयामय,
किस विधि मिलूं दयामय,
तुमको मैं कुमति॥

॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

दीन-बन्धु दुःख-हर्ता,
ठाकुर तुम मेरे,
स्वामी रक्षक तुम मेरे।
अपने हाथ उठाओ,
अपने शरण लगाओ,
द्वार पड़ा तेरे॥

॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

विषय-विकार मिटाओ,
पाप हरो देवा,
स्वामी पाप हरो देवा ।
श्रद्धा भक्ति बढ़ाओ,
श्रद्धा भक्ति बढ़ाओ,
सन्तन की सेवा॥

॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

Om Jay Jagdish Hare PDF in Hindi

यह भी पढ़ें :

श्री सरस्वती चालीसा हिंदी अर्थ सहित

श्री शनि चालीसा हिंदी अर्थ सहित

श्री दुर्गा चालीसा हिंदी अर्थ सहित

Leave a Comment